कुंडलिनी शक्ति जागृत होने के 10 लक्षण

“कुंडलिनी” का अर्थ होता है ‘जो कुंडलित है’ और इसकी व्याख्या ‘साँप की तरह कुंडली मारना’ या ‘कुंडलित’ के रूप में भी की जा सकती है। कुंडलिनी को मूल या मूलाधार चक्र, जो 7 चक्रों में से पहला है, के चारों ओर कुंडलित नाग के रूप में दर्शाया गया है।

कुंडलिनी ऊर्जा तंत्रिका तंत्र में निहित होती है और प्रत्येक श्वास के माध्यम से उत्पन्न होती है, इसलिए इसे एक जीवन शक्ति या प्राण माना जाता है।

कुंडलिनी जागरण का मुख्य उद्देश्य प्रत्येक व्यक्ति के भीतर मौजूद क्षमता को उच्चतम स्तर तक जगाना है। कुंडलिनी शक्ति नारीवाद की दिव्यता का प्रतीक है और अधिकांश पहलुओं में शक्तिवाद से गहराई से संबंधित हो सकती है।

हर व्यक्ति के पास एक कुंडलिनी शक्ति होती है, लेकिन इसे जागृत करता पड़ता है क्योंकि यह हमारी रीढ़ के आधार (मूलाधार चक्र) में निष्क्रिय रहने की प्रवृत्ति रखती है।

यदि किसी व्यक्ति की कुंडलिनी शक्ति नहीं जागती है, तो उसकी ऊर्जा रीढ़ के आधार पर कुंडलित रहती है। जिनकी कुंडलिनी शक्ति जागृत होती है, उनके लिए प्रत्येक चक्र सक्रिय होता है, और वे ब्रह्मांडीय ज्ञान प्राप्त करने के लिए तैयार होते हैं।

कुंडलिनी जागरण की प्रक्रिया आपके जीवन के सबसे भ्रमित और समान रूप से खतरनाक चरणों में से एक हो सकती है। यह एक गहरी शुद्धिकरण प्रक्रिया है, और इस चरण के दौरान व्यक्ति कई बदलावों का अनुभव करता है।

कुंडलिनी जागृत करने की प्रक्रिया आध्यात्मिक प्रगति या समाधि प्राप्त करने से सबसे मुख्य चरणों में से एक है। इसलिए इस प्रक्रिया को सावधानी से करना पड़ता है क्योंकि ठीक से न करने पर इसके दुष्प्रभाव सामने आते हैं।

कुंडलिनी शक्ति का जागरण विभिन्न तरीकों और तकनीकों से किया जा सकता है। कई योग प्रणालियाँ कुंडलिनी को जगाने के लिए प्रमुख रूप से विभिन्न ध्यान तकनीकों, प्राणायाम श्वास, आसन के अभ्यास और मंत्रों के जाप पर जोर देती हैं।

हिंदू धर्म और शक्तिवाद के तंत्र विद्यालयों में कुंडलिनी योग को अत्यधिक महत्त्व दिया जाता है।

कुंडलिनी शक्ति जागृत होने के 10 लक्षण

आपकी कुंडलिनी जागृत हो रही है या नहीं, यह जानने के लिए यहां दस संकेत और लक्षण दिए गए हैं:

  1. आप अपने आप को पिछले सभी अनुभवों का मूल्यांकन करते हुए और भावनात्मक उथल-पुथल की प्रक्रिया से गुजरते हुए पाते हैं। आप उन चीजों के बारे में शोक करते हैं जो आपके पास लंबे समय से हैं, आप कुछ चीजों के होने की कामना करते हैं, और आप उन स्थितियों के बारे में सोचकर दुखी महसूस करते हैं जिनसे आपको पहली बार गुजरना पड़ा था।
  2. जब व्यक्ति की कुंडलिनी जागती है तो उसपर उसके अतीत का बहुत बड़ा प्रभाव होता है। मतलब आप अतीत में हुई घटनाओं के बारे में बहुत विश्लेषण करते हैं। आप आत्म-साक्षात्कार से गुजरते हैं और उन चीजों का विश्लेषण करने का प्रयास करते हैं जो आपने अतीत में की थीं। आप अपने अनुभवों पर दोबारा गौर करते हैं और चाहते हैं कि जो हुआ उसके बजाय कुछ और हुआ होता। आपको इस दौरान अपने अतीत के विचारों में शांति खोजने और उन्हें मुक्त करने का प्रयास करने की आवश्यकता होती है।
  3. यदि आपकी कुंडलिनी जागृत होने लगी है, तो आप कुछ शारीरिक लक्षणों का भी अनुभव कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, रात में चाहे जब नींद खुल जाना, बहुत पसीना आना, रोने का मन करना, या अपनी रीढ़ से ऊर्जा का तीव्र गति गुजरना महसूस होना।
  4. आप अपने जीवन में मौलिक परिवर्तन लाने के लिए दृढ़ हो जायेंगे, जैसे किसी बुरी आदत को छोड़ना, आहार में बदलाव लाना, अपनी जीवनशैली और समय सारणी में बदलाव लाना आदि। यानी आप जीवन के मूल को समझने लगेंगे, उसको ठीक करने पर ध्यान केंद्रित करने लगेंगे हैं, और जो काम नहीं कर रहा है उसे महसूस कर पाएंगे।
  5. व्यापक रूप से कुंडलिनी जागरण एक आत्म-साक्षात्कार का चरण होता है। आप अपनी खुशी को सर्वोच्च प्राथमिकता में रखने लगते हैं और अपने अहंकार को छोड़ देते हैं। आपको अहसास हो जाता है कि आपका मन ही आपको वर्तमान में रहने और अपनी खुशियाँ प्राप्त करने से रोकता है। इसके अलावा, आप अपने मन पर बेहतर ढंग से काबू पाना सीखने लगते हैं।
  6. आप अपनी सहानुभूति क्षमताओं को मजबूत करने लगते हैं, जिसका अर्थ है कि आप एक निश्चित अवधि क्या अनुभव कर रहे हैं इसको बेहतर ढंग से समझने और महसूस करने लगते हैं। इसका मतलब है कि आपकी तीसरी आँख खुल रही है और आप अपने वास्तविक स्वरूप से परिचित होने लगे हैं।
  7. आप प्रकृति से दृढ़ता से जुड़ाव महसूस करने लगते हैं और जितनी बार संभव हो प्रकृति के आसपास रहना पसंद करते हैं। आकाश, पहाड़ियों और नदियों को देखकर आप उत्साहित होने लगते हैं।
  8. आप अपने आसपास प्रणालियों और संरचनाओं के अस्तित्व पर सवाल उठाने लगते हैं। आप धर्म, परंपरा और राजनीति को गहराई से समझने व उसका विश्लेषण करने लगते हैं, और इंसानों के लिए इनके उद्देश्य की पहचान करने की कोशिश करने लगते हैं।
  9. आपको अपने जीवन को हर संभव तरीके से बेहतर बनाने लगते हैं। आप समझने लगते हैं शांति प्राप्त करने के लिए आपको टूटे रिश्ते, पुरानी आदतें आदि को छोड़कर आगे बढ़ जाना चाहिए।
  10. आपको दूसरों की सेवा करना अच्छा लगने लगता हैं। आप समझने लगते हैं कि हम सभी एक हैं और दूसरों की सहायता के प्रति समर्पित रहना सबसे महान और अद्भुत चीज है जो आप कर सकते हैं।

कुंडलिनी शक्ति को ठीक से जागृत करने के लिए एक विशेषज्ञ से उचित मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है।

यदि आप विशेषज्ञ की सहायता के बिना इन लक्षणों का अनुभव कर रहे हैं, तो आपको खुद से आगे नहीं बढ़ना चाहिए।

कृपया किसी कुंडलिनी योग में विशेषज्ञता रखने वाले व्यक्ति को खोजें और उसके मार्गदर्शन अनुसार आगे बढ़ें।

1 Like