हाई ब्लड प्रेशर कम करने के 10 फूड्स

उच्च रक्तचाप को अंग्रेजी में हाई ब्लड प्रेशर या हाइपरटेंशन भी कहा जाता है। यह एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या होती है जिसके कारण हार्ट अटैक, स्ट्रोक या किडनी फैल हो सकती है।

जब शरीर में खून का दबाव जब 140/90 mm Hg से अधिक होता है, तब इसे उच्च रक्तचाप कहा जाता है।

उच्च रक्तचाप के मुख्य कारण हैं – मोटापा, जेनेटिक कारक, अत्यधिक शराब का सेवन, अधिक नमक का सेवन, व्यायाम या परिश्रम कम करना, डिप्रेशन, गर्भ निरोधक दवायों का अधिक सेवन, दर्द निवारक दवायों का अधिक सेवन, किडनी की बीमारी और एड्रेनल डिजीज

उच्च रक्तचाप होने का मुख्य कारण जानने के लिए और इसका पूर्ण इलाज पाने के लिए डॉक्टर से जाँच कराना जरुरी होता है। लेकिन आप घर पर ही कुछ नुस्खों को आजमाकर इसे बहुत हद तक कंट्रोल कर सकते हैं।

यहाँ पर उच्च रक्तचाप के 10 सबसे कारगर घरेलू नुस्खे दिए जा रहे हैं –

1. नींबू

नींबू शरीर की रक्त वाहिकाओं को मुलायम और लचीला बनाने में मदद करता है। इससे इनमें रक्त का प्रभाह ठीक से हो पाता है और रक्तचाप कम हो जाता है।

साथ ही नींबू के जूस का नियमित सेवन करने से हार्ट फैल होने की सम्भावना कम होती है क्योंकि इसमें विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है। विटामिन सी एक एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो फ्री रेडिकल्स के बुरे प्रभाव को खत्म करता है।

रोज सुबह खाली पेट एक कप पानी में एक मध्यम आकार के नींबू के रस को घोलकर सेवन करें। अच्छे परिणाम पाने के लिए इसमें नमक या शक्कर न मिलाएं।

2. तरबूज के बीज

तरबूज के बीजों में कुकुरबोसिट्रिन (cucurbocitrin) नामक यौगिक पाया जाता है, जो रक्त कोशिकाओं को चौड़ा करने में मदद करता है।

साथ ही यह किडनी के कामकाज को ठीक करने में भी मदद करता है। इसलिए इनके सेवन से ब्लड प्रेशर कम होता है और गठिया रोग में भी बहुत लाभ मिलता है।

2010 में हुए एक अनुसन्धान से यह बात सामने आई थी कि तरबूज के बीजों के सेवन से शरीर पर वाहिकाविस्फारक प्रभाव होता है, जो ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है।

  • सूखे तरबूज के बीजों और खसखस के बीजों को समान मात्रा में मिलाकर पीस लें। रोज सुबह-शाम खाली पेट एक चम्मच पाउडर का सेवन करें।
  • या फिर दो चम्मच तरबूज के बीजों को कुचलकर एक कप उबले पानी में डाल दें। एक घंटे के बाद इस पानी को छलनी से छान लें। इस पानी को चार-चार चम्मच की मात्रा में दिनभर चार-पांच बार सेवन करें।

3. लहसुन

कई शोधों में लहसुन को हाई ब्लड प्रेशर में फायदेमंद पाया गया है। कच्चा या पका हुआ, दोनों ही प्रकार का लहसुन उच्च रक्तचाप और उच्च कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कम करने में मदद करता है।

लहसुन शरीर में नाइट्रिक ऑक्साइड और हाइड्रोजन सल्फाइड के प्रोडक्शन को उत्तेजित करके ब्लड वेसल्स को रिलैक्स करने में मदद करता है।

  • रोज दो लहसुन की कलियों को कुचलकर सेवन करें। आप इन्हें अपने हांथों से ही कुचलकर खा सकते हैं। लहसुन को कुचलकर खाने से हाइड्रोजन सल्फाइड पैदा होता है जो रक्त प्रवाह को ठीक करता है, गैस की समस्या को कम करता है और दिल के प्रेशर को कम करके दिल की बीमारी और हार्ट अटैक की सम्भावना को कम करता है।
  • आप रोज चार-पांच बूंद लहसुन के रस को चार चम्मच पानी में डालकर भी सेवन कर सकते है। इसे रोजाना दो बार सेवन करें।

4. केला

केला उच्च रक्तचाप के मरीजों के लिए फायदेमंद होता है। केला में पोटैशियम भरपूर होता है, जो शरीर में सोडियम के प्रभाव को कम करता है।

इसलिए रोजाना कम से कम दो केलों का सेवन जरूर करें। केले के साथ-साथ आप किशमिश, गाजर, संतरे का जूस, पालक, तुरई, शकरकंद, खरबूजा और पपीता का सेवन भी कर सकते हैं।

5. अजवाइन

अजवाइन में अत्यधिक मात्रा में 3-एन-ब्यूटाइलफ्थेलाइड (3-N-butylphthalide) नामक फाइटोकेमिकल होता है, जो उच्च रक्तचाप को नियंत्रित में काफी मदद करता है।

यह रक्त वाहिकाओं के आसपास की मांसपेशियों ढीला कर कर देता है, जिससे रक्त को बहने के लिए ज्यादा जगह मिल जाती है और ब्लड प्रेशर कम हो जाता है।

साथ ही अजवाइन स्ट्रेस हॉर्मोन को भी कम करती है। स्ट्रेस हॉर्मोन का स्तर अधिक होने के कारण भी ब्लड प्रेशर हाई हो जाता है।

रोज दो-तीन चम्मच अजवाइन के बीजों को पानी के साथ गटक लें। आप इसे चबाकर भी खा सकते हैं।

6. नारियल पानी

उच्च रक्तचाप के मरीजों को अपना शरीर हाइड्रेटेड (पानी से भरपूर) रखना बहुत जरूरी होता है। नियमित नारियल पानी का सेवन करने से यह कमी पूरी हो जाती है। साथ ही यह ब्लड प्रेशर कम करने में भी मदद करता है।

2005 में वेस्ट इंडियन मेडिकल जर्नल में पब्लिश हुई एक रिपोर्ट के अनुसार नारियल पानी में पोटैशियम, मैग्नीशियम और विटामिन सी भरपूर होते है, जो सिस्टोलिक ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करते हैं।

नियमित रूप से नारियल पानी का सेवन करने के साथ-साथ अपने भोजन में नारियल के तेल का इस्तेमाल करें।

7. लाल मिर्च

हल्के उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में लाल मिर्च काफी लाभकारी होती है। यह प्लेटलेट्स को एक जगह इकठ्ठा नहीं होने देती, जिससे रक्त का प्रभाह ठीक रहता है।

अपने भोजन में लाल मिर्च का नियमित इस्तेमाल करें। आप लाल मिर्च को फल, सब्जी, सलाद या सूप में छिड़ककर भी सेवन कर सकते हैं।

8. प्याज का रस

प्याज के रस में क्वेरसेटिन (quercetin) नामक एंटीऑक्सीडेंट पाया जाता है, जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।

  • रोज एक मध्यम आकार की प्याज का सेवन करें।
  • साथ ही आधा चम्मच प्याज के रस में आधा चम्मच शहद मिलाकर दिन में दो बार सेवन करें।

9. शहद

शहद का ह्रदय और रक्त कोशिकाओं पर शांतिकारी प्रभाव होता है। इसलिए यह भी उच्च रक्तचाप को कम करने में लाभकारी है।

  • योज सुबह खाली पेट दो चम्मच शहद का सेवन करें।
  • या फिर, एक-एक चम्मच शहद और अदरक के रस को जीरा के पाउडर के साथ मिलाकर सेवन करें। इसे दिन में दो बार सेवन करें।
  • शहद को तुलसी के रस के मिलाकर खाली पेट सेवन करने से भी रक्तचाप ठीक होता है।

10. मेथी के बीज

मेथी के बीजों में अत्यधिक पोटैशियम और फाइबर होने के कारण, यह उच्च रक्तचाप को कम करने में मदद कर सकती है।

  • दो चम्मच मेथी के बीजों को दो मिनट के लिए पानी में डालकर उबालें और फिर छानकर अलग कर लें।
  • अब इन बीजों को मसलकर पेस्ट बना लें।
  • इस पेस्ट को दिन में दो बार सेवन करें, एक सुबह खाली पेट और एक बार शाम को। इस उपचार को लगातार दो महीने के लिए करें।

ऊपर दिए गए उपचारों को अपनाकर आप उच्च रक्तचाप को बहुत हद नियंत्रित कर सकते हैं, लेकिन साथ ही बीच-बीच में अपने डॉक्टर से भी जाँच कराते रहें।