संतरा खाने के 10 फायदे

संतरा या ऑरेंज एक नारंगी रंग का स्वादिष्ट फल होता है। यह विटामिन ए, बी और सी, कैल्शियम, मैग्नीशियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, कोलीन और अन्य पोषक पदार्थों से भरपूर होता है।

साथ ही, संतरे में मजबूत एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव पैदा करने वाले 170 से भी ज्यादा फाइटोकेमिकल्स और 60 से ऊपर फ्लवोनोइड्स होते हैं।

संतरे के ज्यादातर स्वास्थ्य लाभ इसमें मौजूद अत्यधिक विटामिन सी के कारण होते हैं।

एक इटालियन शोध के अनुसार एक गिलास संतरे के जूस का सेवन विटामिन सी के सप्लीमेंट्स के सेवन से ज्यादा लाभकारी होता है

लेकिन, संतरे के उचित स्वास्थ्य लाभ लेने के लिए इसका संतुलित मात्रा में ही सेवन ही करना चाहिए।

इसमें मौजूद अत्यधिक शुगर और एसिडिक कंटेंट के कारण दांतों में सड़न, मसूड़ों में दर्द और दांतों की इनेमल के पतला होने की समस्या हो सकती है।

इसलिए संतरे का नियमित सेवन तो करें लेकिन एक बार में इसके अत्यधिक सेवन से बचें।

संतरे के 10 सबसे अधिक कारगर स्वास्थ्य लाभ नीचे दिए जा रहे हैं –

1. रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है

संतरा में भरपूर मात्रा में विटामिन सी होता है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में काफी मदद करता है।

विटामिन सी सफेद रक्त कोशिकाओं के प्रोडक्शन को बढ़ाता है जो शरीर में वायरस, बैक्टीरिया और अन्य नुकसानदायक पदार्थों से लड़ते हैं।

संतरे में अत्यधिक मात्रा में पॉलीफेनोल्स होते हैं जो शरीर में वायरस इन्फेक्शन होने से बचाते हैं। यह शरीर को विटामिन सी, फोलेट और कॉपर भी प्रदान करते हैं जो रोग रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए लाभकारी पदार्थ हैं।

अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए रोज दो संतरे खाएं या इनका जूस बनाकर पियें।

2. त्वचा को स्वस्थ और जवां बनाये रखता है

संतरे में अत्यधिक विटामिन सी होने के कारण यह त्वचा को भरपूर पोषण प्रदान करता है और बाहरी खतरों से बचाता है।

यह एंटीऑक्सीडेंट विटामिन स्किन को सूर्य की किरणों और पर्यावरण प्रदूषण से डैमेज होने से बचाता है। साथ ही यह कोलेजन के निर्माण में मदद करता है, स्किन की इलास्टिसिटी (लचीलेपन) को बढ़ाता है और झुर्रियों को कम करता है

इस फल को नियमित खाकर या इसके रस को अपनी त्वचा पर लगाकर इसका पूर्ण लाभ लिया जा सकता है।

आप संतरे के छिलकों का फेस मास्क बनाकर भी लगा सकते हैं। इसके छिलकों में साइट्रिक एसिड होती है जो स्किन को गोरा करती है और इसके बंद छिद्रों को खोल देती है।

3. कोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करता है

संतरे में पेक्टिन नामक घुलनशील फाइबर होता है जो अतिरिक्त कोलेस्ट्रॉल को रक्त में घुलने से पहले ही सोखकर शरीर से बाहर कर देता है।

साथ ही इसमें हैस्पेरिडीन (hesperidin) नामक फ्लवोनोन होता है, जो रक्त में मौजूद कोलेस्ट्रॉल को कम करने के साथ-साथ उच्च रक्तचाप को भी नियंत्रित करता है।

इसलिए कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप से सम्बंधित समस्यायों से लड़ने के लिए अपनी रेगुलर डाइट में एक संतरा और एक गिलास संतरे के जूस को शामिल करें।

4. ह्रदय को स्वस्थ रखता है

संतरे में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, फोलेट और पोटैशियम होने के कारण यह ह्रदय के स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है।

इसमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, खासतौर पर विटामिन सी शरीर की धमनियों को फ्री रेडिकल्स से बचाता है और कोलेस्ट्रॉल के ऑक्सीडेशन को रोकता है।

साथ ही संतरा में फाइटोकेमिकल्स पाए जाते हैं, जो प्लेटलेट्स को रक्त में इकठ्ठा होकर जमने से रोकते हैं। इससे रक्त का संचार थी से होता है और शरीर के विभिन्न अंगों को पर्याप्त ऑक्सीजन और जरूरी पोषक तत्व मिल पाते हैं।

फोलेट या विटामिन बी9 शरीर में होमोसिस्टीन नामक एमिनो एसिड को प्रोसेस करता है। होमोसिस्टीन का स्तर ज्यादा होने पर हार्ट अटैक और हाई कोलेस्ट्रॉल होने की सम्भावना अधिक होती है।

संतरे में मौजूद पोटैशियम भी ह्रदय के कामकाज और इसकी मांसपेशियों के संकुचन के लिए जरूरी पोषक तत्व है।

साथ ही, रिसर्च के अनुसार संतरे में मौजूद होमोसिस्टीन पदार्थ शरीर की रक्त कोशिकाओं को सुरक्षित रखता है।

इसलिए अपने शरीर को स्वस्थ रखने के लिए रोज एक ताजा संतरा या इसके जूस का सेवन करें।

5. संधिशोथ से बचाता है

अमेरिकन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रीशन में पब्लिश हुई एक स्टडी के अनुसार एक गिलास ताजा संतरे के जूस का सेवन करने से संधिशोथ रोग होने की सम्भावना काफी कम हो जाती है।

संतरा विटामिन सी का अच्छा स्त्रोत होने के कारण जोड़ों की सूजन और इन्फ्लामेशन को कम करने में मदद करता है।

साथ ही इसमें मौजूद फाइटोन्यूट्रिएंट्स जेक्सैंथिन और बीटा-क्रिप्टोक्सैंथिन, हमारे शरीर में ऑक्सीडेटिव डैमेज होने से बचाते हैं। ऑक्सीडेटिव डैमेज के कारण शरीर में इन्फ्लेमेशन काफी बढ़ जाता है।

6. गुर्दे में पथरी होने से रोकता है

संतरे में मौजूद विटामिन सी किडनी के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।

यह यूरिन में साइट्रेट के स्तर को बढ़ा देता है। साइट्रेट यूरिन में मौजूद एसिड्स को न्यूट्रलाइज कर देता है और यूरिक एसिड और कैल्शियम ऑक्सालेट के क्रिस्टलीकरण को रोककर किडनी स्टोन में परिवर्तित होने से रोक देता है।

इसलिए संतरे के नियमित सेवन से किडनी में कैल्शियम ऑक्सालेट किडनी स्टोन बनने की सम्भावना बहुत ही कम हो जाती है।

अमेरिका के टेक्सास साउथवेस्टर्न मेडिकल सेंटर के अनुसार किडनी स्टोन होने से बचने के लिए रोज एक गिलास संतरे के जूस का सेवन अन्य किसी और उपचार या मेडिकेशन से ज्यादा इफेक्टिव होता है।

7. वजन कम करने में मदद करता है

मोटापा कम करने की प्रक्रिया में संतरा काफी लाभकारी होता है।

इसमें मौजूद हाई फाइबर और विटामिन सी वजन कम करने की प्रक्रिया को बढ़ाते हैं।

फाइबर के कारण हमारा पेट भरा हुआ महसूस होता है और हम कम खाना खाते हैं।

विटामिन सी शरीर में ग्लूकोस को ऊर्जा में परिवर्तित करता है और अतिरिक्त चर्बी को जलाने में मदद करता है।

साथ ही संतरा एक अच्छा लो कैलोरी और फैट फ्री पोषक पदार्थ होता है जो बिना वजन बढ़ाये शरीर को जरूरी पोषण देता है।

अच्छे रिजल्ट्स पाने के लिए रोज अपने दिन की शुरुआत एक गिलास ताजा संतरे के जूस के सेवन के साथ करें।

बाजार में उपलब्ध पैकेज्ड संतरे के जूस का सेवन कम ही करें क्योंकि इनमें आर्टिफीसियल स्वीटनर और प्रेज़रवेटिव मिले होते हैं। इनकी जगह ताजा संतरों के जूस को निकाल कर सेवन करें।

8. कैंसर से बचाता है

संतरे में हैस्पेरिडीन और नारिंगिनिन नामक एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं और कैंसर होने से रोकते हैं।

इसमें मौजूद ज़ेक्सैथीन और कैरोटीनॉयड, हमारे शरीर को विभिन्न के कैंसर, खासतौर से प्रोस्टेट कैंसर से बचाते हैं।

साथ ही इसमें लिमोनोइड यौगिक भी होता है जो मुंह, पेट, फेफड़ों, त्वचा और स्तन कैंसर से लड़ता है।

अमेरिकन जर्नल ऑफ एपिडेमियोलॉजी में पब्लिश हुई एक रिसर्च के अनुसार दो साल से छोटे बच्चों को संतरे और केले के जूस का नियमित सेवन कराने से उनमें चाइल्डहुड ल्यूकेमिया होने की सम्भावना काफी कम हो जाती है।

9. आंखों को स्वस्थ रखता है

पीले और नारंगी रंग के फल आंखों की रौशनी के लिए काफी लाभकारी होते हैं, क्योंकि इनमें बीटा-कैरोटीन और विटामिन ए भरपूर होते है।

संतरे में बीटा-कैरोटीन के साथ-साथ अन्य कैरोटीनॉयड भी होते हैं, जो शरीर में विटामिन ए में परिवर्तित हो जाते हैं।

उदाहरण के लिए संतरे में मौजूद ल्युटीन और ज़ेक्सैथीन नामक कैरोटीनॉयड आंखों में कोई भी जीर्ण नेत्र रोग होने से बचाते हैं।

साथ ही संतरे में मौजूद विटामिन सी और अन्य एंटीऑक्सीडेंट आंखों में मोतियाबिंद होने से रोकते हैं और उम्र के कारण होने वाले चकत्तेदार अध: पतन की गति को कम कर देते हैं।

10. एजिंग से लड़ता है

संतरे को एक अच्छा एंटी-एजिंग फ्रूट माना जाता है क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट कंपाउंड्स होते हैं जो फ्री रेडिकल्स से लड़ते हैं।

फ्री रेडिकल्स के कारण ही एजिंग तेज हो जाती है।

कई शोधों से यह पता चला है कि फ्री रेडिकल्स को कम करने के लिए संतरे में मौजूद विटामिन सी काफी उपयोगी एंटीऑक्सीडेंट होता है।

रोज एक कप संतरे के जूस के सेवन से शरीर की दिनभर की 1/5 विटामिन सी की जरूरत पूर्ण हो जाती है।

संतरा समय से पूर्व बुढ़ापे को भी रोकता है, क्योंकि विटामिन सी और बीटा-कैरोटीन त्वचा की मरम्मत को बढ़ाते हैं।