बादाम खाने के 10 फायदे

बादाम खाने के 10 फायदे

स्वाद में काफी स्वादिष्ट और बहुमुखी गुणों से भरपूर होने के कारण बादाम काफी पोपुलर खाद्य पदार्थ है। ज्यादातर लोग बादाम को नट्स समझते हैं, लेकिन तकनीकी रूप से यह बीज होते हैं।

बादाम दो प्रकार की किस्मों में मिलते हैं – स्वीट और बिटर। स्वीट बादाम को खाने के रूप में इस्तेमाल किया जाता है और बिटर बादाम से तेल बनाया जाता है। यह दोनों ही किस्में आसानी से बाजार में उपलब्ध होती है।

बादाम को रात को भिगोकर रख दें और सुबह खाएं। बाजार में बादाम का दूध, आटा और मक्खन भी उपलब्ध होता है।

बादाम स्वाद में स्वादिष्ट होने के साथ-साथ स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होता है। इसमें उच्च गुणवत्ता वाले प्रोटीन, विटामिन ई, मैग्नीशियम, फाइबर और कई जरुरी एमिनो एसिड्स भरपूर मात्रा में होते हैं।

यह शरीर को कॉपर, विटामिन बी, कैल्शियम, पोटैशियम, फॉस्फोरस, आयरन और स्वस्थ वसा भी प्रदान करता है।

हालांकि बादाम में कई सारे जरुरी पोषक तत्व होते हैं लेकिन इनका अत्यधिक सेवन नुकसानदायक भी हो सकता है इसलिए इसका एक उचित मात्रा में ही सेवन करना चाहिए।

नीचे बादाम के टॉप 10 फायदे दिए जा रहे हैं –

1. कोलेस्ट्रॉल को कम करता है

बादाम का नियमित सेवन करने से आपके कोलेस्ट्रॉल का स्तर ठीक होता है। बादाम में पॉलीसैचुरेटेड और मोनोसैचुरेटेड फैट्स होते हैं जो HDL (अच्छे कोलेस्ट्रॉल) को बढ़ाते हैं और LDL (बुरे कोलेस्ट्रॉल) को कम करते हैं।

2002 में अमेरिकन हार्ट एसोसिएशन जर्नल ने एक रिसर्च के जरिये यह पता लगाया कि बादाम LDL कोलेस्ट्रॉल के स्तर को 15 प्रतिशत तक कम कर सकता है। प्रत्येक 7 ग्राम बादाम का सेवन LDL कोलेस्ट्रॉल के स्तर को 1 प्रतिशत कम करता है।

2. मधुमेह को नियंत्रित करता है

बादाम ब्लड के शुगर लेवल को कम करता है और मधुमेह के कारण होने वाली अन्य समस्यायों से बचाता है।

इसमें मौजूद हेल्थी फैट्स, विटामिन्स और खनिज पदार्थ शरीर की अवशोषण प्रक्रिया और ग्लूकोज प्रोसेसिंग को ठीक करने में मदद करते हैं।

ऑनलाइन जर्नल डायबिटीज केयर में पब्लिश हुए एक शोध के अनुसार बादाम रजोनिवृत्ति महिलायों में टाइप-2 मधुमेह कम करने में मदद कर सकता है।

इसके साथ ही कुछ अन्य शोधों से यह पता चला है कि बादाम अत्यधिक खाना खाने के बाद रक्त में आने वाली शुगर की बाड़ से बचाता है। इसके फलस्वरूप डायबिटीज होने की सम्भावना कम हो जाती है।

ब्लड शुगर लेवल को हेल्थी बनाये रखने के लिए रोज खाना खाने के तुरंत पहले एक बादाम को खाएं।

3. ह्रदय को स्वस्थ रखने में मदद करता है

बादाम में ऐसे कई पोषक तत्व होते हैं जो ह्रदय को स्वस्थ रखते हैं।

उदाहरण के लिए बादाम में पाया जाने वाला मैग्नीशियम रक्त संचार को बेहतर बनाकर शरीर में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की आवाजाही को बढ़ाता है। इससे रक्तचाप नियंत्रित रहता है और हार्ट अटैक (दिल का दौरा) की सम्भावना कम होती है।

बादाम में मोनो-अनसैचुरेटेड वसा अधिक होता है, जो ह्रदय के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है।

साथ ही इसमें विटामिन ई भी होता है। विटामिन ई एक एंटीऑक्सीडेंट है जो धमनियों को नुकसान पहुँचाने वाले इन्फ्लेमेशन को कम करता है। इससे ह्रदय रोग होने की संभावनाएं कम हो जाती हैं।

अपने ह्रदय को स्वस्थ रखने के रोज चार-पांच बादामों का सेवन करें। बादाम को आप नास्ते के रूप में, सलाद, सूप आदि बनाकर सेवन कर सकते हैं।

4. दिमाग की क्षमता को बढ़ाता है

बादाम में मौजूद अत्यधिक विटामिन ई दिमाग को तेज रखने के लिए काफी फायदेमंद है। यह संज्ञानात्मक गिरावट को रोकता है और सतर्कता और याददाश्त को बढ़ाता है।

साथ ही बादाम में जिंक भी खूब होता है जो ब्रेन सेल्स को फ्री रेडिकल डैमेज से बचाता है। इसमें मौजूद विटामिन बी-6, प्रोटीन के मेटाबोलिज्म को ठीक करता है जो ब्रेन सेल्स को रिपेयर करने के लिए जरुरी होता है।

बादाम में फिनाइल एलेनिन नामक अल्फा एमिनो एसिड होता है, जो पार्किंसंस रोग को होने से रोकता है और डोपामाइन व एड्रिनैलिन नामक ब्रेन केमिकल्स के उत्पादन को बढ़ाता है। यह केमिकल्स हमारे ध्यान और स्मरण शक्ति को बनाये रखने के लिए जरुरी होते हैं और हमारी प्रॉब्लम सोल्विंग स्किल्स बढ़ाते हैं।

स्मरण शक्ति को बढ़ाने और दिमाग को तेज करने के लिए बादाम का नियमित सेवन करें।

5. वजन कम करने में मदद करता है

बादाम में मौजूद फाइबर, प्रोटीन और मोनो-अनसैचुरेटेड वसा भूख को कम करते हैं। इससे आप कम खायेंगे और मोटा होने से बचे रहेंगे। इसमें मौजूद विटामिन बी और जिंक हमारी शुगर या मीठी चीजों को खाने की इच्छा को कम करते हैं।

यूरोपियन जर्नल ऑफ क्लिनिकल न्यूट्रीशन में पब्लिश हुई एक रिसर्च के अनुसार जो लोग लगातार चार हफ्तों तक रोज 50 ग्राम बादामों का सेवन करते हैं उनका वजन अन्य लोगों के मुकाबले काफी कम बढ़ता है। इसलिए यदि आप वजन कम करने के लिए डाइटिंग करना चाहते हैं, तो बादाम का रोज सेवन करें।

Note – रोज 20 से 25 बादामों से अधिक का सेवन न करें।

6. माँ के पेट में नवजात शीशियों का ठीक से विकास होने में मदद करता है

बादाम में अत्यधिक मात्रा में फोलिक एसिड होती है, जो माँ के पेट में मौजूद नवजात शिशुयों के सेल्स और टिश्यू का ठीक से विकास करने में मदद करती है। यह नवजात शिशुयों में न्यूरल ट्यूब डिफेक्ट (NTDs) जैसे स्पाइना बिफिडा और अभिमस्तिष्कता होने से रोकती है।

इसलिए यदि आपके घर में कोई भी गर्भवती महिला हो तो उसे अपने खानपान में बादाम को शामिल करने को कहें। यह बेबी में कोई जन्म दोष होने से रोकेगा।

7. कब्ज ठीक करता है

बादाम में मौजूद अत्यधिक फाइबर कब्ज की रोकधाम और इलाज दोनों करता है।

फाइबर पाचन तंत्र में भोजन की आसान आवाजाही को बढ़ावा देता है, जिसके कारण कब्ज ठीक होता है।

इसके साथ ही आपको खूब पानी पीने की भी जरूरत है जिससे पाचन और मल त्याग सरल हो जाता है।

बादाम जैसे फाइबर युक्त पदार्थों के सेवन से पेट के कैंसर की भी रोकधाम होती है।

पाचन तंत्र के कारण सीने में होने वाली जलन को भी ठीक करने में मदद करता है। इसमें मौजूद आयल कंटेंट पेट की एसिड्स को बेअसर करके आराम प्रदान करता है।

अपने पाचन और मल त्याग को ठीक रखने के लिए रोज चार से पांच बादामों का सेवन करें।

8. हड्डियों को मजबूत को मजबूत बनाता है

बादाम में फॉस्फोरस और कैल्शियम प्रचुर मात्रा में होते हैं, जो हड्डियों के लिए सबसे जरुरी खनिज पदार्थ हैं।

इसमें मैग्नीशियम, मैंगनीज और पोटैशियम भी होते हैं जो हड्डियों को मजबूत बनाये रखने में मदद करते हैं।

साथ ही बादाम शरीर में मौजूद फ्री रेडिकल्स को दूर करके जोड़ों के दर्द को ठीक करता है।

अपनी हड्डियों को मजबूत बनाये रखने के लिए और गठिया जैसे गंभीर हड्डी के रोगों से बचे रहने के लिए पोषक तत्वों से भरपूर बादाम का नियमित सेवन करें।

छोटे बच्चों की बादाम के तेल से मालिश करने से उनकी हड्डियाँ मजबूत बनी रहती हैं।

9. स्किन को स्वस्थ रखता है

बादाम स्किन को स्वस्थ और सुन्दर बनाये रखने में भी काफी मदद करता है। इसमें मौजूद विटामिन ई स्किन को पोषण देता है और उसे सूखने से बचाए रखता है

बादाम के तेल से स्किन की मालिश करने से रंग संवरता है, सूरज की किरणों से नुकसान कम होता है और स्किन स्वस्थ बनी रहती है।

इसकी अच्छी बात यह है कि बादाम के तेल की मालिश से स्किन चिपचिपी नहीं होती और उसके छिद्र बंद नहीं होते। आप बादाम के दूध से भी स्किन की मालिश कर सकते हैं।

बादाम में एंटी-एजिंग प्रॉपर्टीज भी होती हैं जो झुर्रियां, फाइन लाइन्स और अन्य एजिंग संकेतों को खत्म करती हैं।

10. बालों की परेशानियों से बचाए रखता है

बालों में होने वाली परेशानियाँ जैसे डेंड्रफ, बाल झड़ना, घुंघराले बाल या सिर की खुजली में बादाम फायदेमंद काफी होता है।

इसमें कई हेयर फ्रेंडली पोषक तत्व होते हैं जैसे विटामिन ई, बायोटिन, मैंगनीज, कॉपर और फैटी एसिड्स। यह सभी पोषक तत्व बालों को लम्बा, काला, घना और मुलायम बनाये रखने में मदद करते हैं।

साथ ही बादाम में मौजूद जिंक नए सेल्स को बनाने में मदद करते बालों को मोटा करता है। शरीर में जिंक की कमी होने पर बाल पतले होने लगते हैं और झड़ने लगते हैं।

Note – किडनी या पित्ताशय के मरीज बादाम का सेवन न करें क्योंकि इसमें ऑक्सालेट्स होते हैं।