Woh Mera Naam Likhti Hai Kalaai Par | Rajat Sood | Social House Poetry

Woh Mera Naam Likhti Hai Kalaai Par | Rajat Sood | Social House Poetry


इस कविता के बारे में :

इस काव्य ‘वो मेरा नाम लिखती हैं कलाई पर’ को Social House के लेबल के तहत रजत सूद ने लिखा और प्रस्तुत किया है।

*****


दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

वो मेरा नाम लिखती हैं कलाई पर

वो लबों से मीठी चासनी नहीं है कहीं

मैं पूछने तक गया था हलवाई तक


***

उन कंधों पर बाल मेरे नहीं मिलेंगे

वो खास ध्यान देती है सफाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर


***

दाढ़ी बड़ी हो तो करीब हो तो मत आना

दाढ़ी झट पहुच जाती है नाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर


***

शाम होते ही वो अपने घर चल गयी

जान कर खुशबु छोड़ गयी रज़ाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर


***

रज़ाई तो तुम बहुत याद आते हो

उसे हसी आती है इस सच्चाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर


***

प्यार भरा मैसेज तैयार था किया

गलत सेंड हो गया उसके भाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर


***

भले लोग सभी से प्यार करते हैं

किसी को भरोसा कहा भलाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

वो मेरा नाम लिखती हैं कलाई पर


 

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top