Dr. Rahat Indori – Wo Roza To Nahi Rakhta Par Iftaari Samajhta Hai

Dr. Rahat Indori – Wo Roza To Nahi Rakhta Par Iftaari Samajhta Hai


Siyasat mein zaruri hai

rawadaari samajhta hai

Wo roza to nahi rakhta

par iftaari samajhta hai

——

Main saasein tak luta sakta

hoon uske ek ishaare par

Magar wo mere har vaade ko

sarkaari samajhta hai

——

Kaseeda kis tarah likhna

kaseeda kis tarah padhna

Wo kuch samjhe na samjhe

raagdarbaari samajhta hai

—————————————

सियासत में ज़रूरी है

रवादारी समझता है

वो रोज़ा तो नहीं रखता

पर इफ्तारी समझता है

——

मैं सासें तक लुटा सकता हूँ उसके

एक इशारे पर

मगर वो मेरे हर वाडे को

सरकारी समझता है

——

कसीदा किस तरह लिखना कसीदा

किस तरह पढ़ना

वो कुछ समझे न समझे

रागदरबारी समझता है
 

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top