Sita vivah geet lyrics gauri puja सीता विवाह गीत लिरिक्स गौरी पूजा

Sita vivah geet gauri puja – प्रस्तुत गीत सीता के द्वारा गौरी पूजन का है इस गीत में सीता विवाह से पूर्व राम को वर के रूप में प्राप्त करने के लिए पुष्प वाटिका में गौरी पूजन करती है और उनको वर के रूप में प्राप्त करना चाहती है।

इस पूजन के लिए सीता अपने विश्वासपात्र सखी – सहेलियों के साथ जाती है , इस गीत के माध्यम से उस समय के परिवेश को उतारने का प्रयत्न किया गया है। सीता के हाथों में कंचन थाल है जिसमें पूजा की सभी सामग्रियां है और सखियां मंगलाचार करती हुई गौरी पूजन कर रही हैं।
सीता ने किस प्रकार का श्रृंगार किया हुआ है और किस प्रकार की साड़ी पहनी हुई है जो मनोहारी है , यह सब देवी दुर्गा गौरी की प्रसन्नता के लिए है। मां का आशीर्वाद से ही राम को पृथ्वी लोक पर प्राप्त कर सकती है , ऐसा मानते हुए सीता गौरी पूजन के लिए प्रस्तुत हुई है।

Sita vivah geet gauri puja​

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

संग सखिन के जनक नंदिनी

संग सखिन के जनक नंदिनी

चली मुदित मनहारी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजन गोरी चली सिया प्यारी

कंचन जड़ीत थाल शुभरन के

कंचन जड़ीत थाल शुभरन के

दधि लोचन फल सुपारी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजन गोरी चली सिया प्यारी

गावत मंगल गीत मनोहर

गावत मंगल गीत मनोहर

गावत मंगल गीत मनोहर

गावत मंगल गीत मनोहर

पहने कुसुम रंग साड़ी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजा किन्ही अधिक अनुरागी

पूजा किन्ही अधिक अनुरागी

निज अनुरूप सुभग वर मांगी

निज अनुरूप सुभग वर मांगी

पूजन गौरी सलीसिया प्यारी

पूजन गौरी सलीसिया प्यारी

कंचन थाल कपूर की बाती

कंचन थाल कपूर की बाती

आरती करत सखीं सब प्यारी

आरती करत सखीं सब प्यारी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजन गोरी चली सिया प्यारी

पूजन गौरी चली सिया प्यारी

पूजन गौरी चली , गौरी चली ,

गौरी चली सिया प्यारी

 

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top