Village Shayari In Hindi | गाँव पर शायरी

जब शहर पूछता नहीं उस को
गाँव भी चिट्ठियाँ नहीं लिखता – प्रताप सोमवंशी

Jab Shehar Poochata Nahi Usko
Gaav Bhi Chitthiya Nahi Likhta – Pratap Somvanshi

तबाह कर गई पक्के मकान की ख़्वाहिश
मैं अपने गाँव के कच्चे मकान से भी गया -शाहिद कबीर

Tabaah Kar Gayi Pakke Makaan Ki Khwahish
Mai Apne Gaav Ke Kachche Makaan Se Bhi Gaya – Shahid Kabeer

तुम्हारे शहर में मय्यत को सब कांधा नहीं देते
हमारे गाँव में छप्पर भी सब मिल कर उठाते हैं -मुनव्वर राना

Tumhare Shehar Me Mayyat Ko Sab Kandha Nahi Dete
Hamare Gaav Me Chappar Bhi Sab Mil Kar Uthate Hai – Munavvar Rana


Village Shayari In Hindi | गाँव पर शायरी​

गाँव में अब गाँव जैसी बात भी बाक़ी नहीं
यानी गुज़रे वक़्त की सौग़ात भी बाक़ी नहीं -राग़िब अख़्तर

Gaav Me Ab Gaav Jaisi Baat Bhi Baaki Nahi
Yaani Guzre Wakt Ki Saugaat Bhi Baaki Nahi – Ragib Akhtar

मुमकिन है हमें गाँव भी पहचान न पाए
बचपन में ही हम घर से कमाने निकल आए -मुनव्वर राना

Mumkin Hai Hamein Gaav Pehchaan N Paaye
Bachpan Me Hi Hum Ghar Se Kamane Nikal Aaye – Munavvar Rana

तुम्हारे शहर में तस्वीरें बोलती होंगी
हमारे गाँव में पत्थर कलाम करते हैं -मुस्तफ़ा जमील

Tumahre Shehar Me Tasveere Bolati Hongi
Hamare Gaav Me Patthar Kalaam Karte Hai – Mustafa Jameek

मैं गाँव लौट रहा हूँ बहुत दिनों के बाद
ख़ुदा करे कि उसे मेरा इंतिज़ार न हो -वसीम बरेलवी

Mai Gaav Laut Raha Hu Bahut Dino Ke Baad
Khuda Kare Ki Use Mera Intezaar N Ho – Waseem Barelavi

बहा के बैठे हैं अश्कों का इक समुंदर हम
फिर आ गए हैं तिरे गाँव से गुज़र कर हम -हैदर जाफ़री

Baha Ke Baithe Hai Ashqo Ka Samandar Hum
Phir Aa Gaye Hai Tere Gaav Se Guzar Kar Hum – Haidar Zafari

Village Shayari In Hindi | गाँव पर शायरी​

तुम्हारे बाद उजाले भी हो गए रुख़्सत
हमारे शहर का मंज़र भी गाँव जैसा है – हकीम नासिर

Tumahre Baad Ujale Bhi Ho Gaye Rukhsat
Hamare Shehar Ka Manjar Bhi Gaav Jaisa Hai – Hakeem Nasir

जब भी लौटा गाँव के बाज़ार से
मुझ को सब बच्चों ने देखा प्यार से -नवाब अहसन

Jab Bhi Lauta Gaav Ke Bazaar Me
Mujhko Sab Ne Dekha Pyaar Se – Nawaab Ahsan

अजब से ख़ौफ़ में लिपटा है गाँव का पनघट
सुना है फिर से कोई देवदास डूब गया -निर्मल नदीम

Ajab Se Khauf Me Lipata Hai Gaav Ka Panghat
Suna Hai Phir Se Koi Devdaas Doob Gaya – Nirmal Nadeem

तुझ से बिछड़े गाँव छूटा शहर में आ कर बसे
तज दिए सब संगी साथी त्याग डाला देस भी -नासिर शहज़ाद

Tujh Se Bichare Gaav Choota Shehar Me Aa Kar Base
Taj Diye Sab Sangi Sathi Tyaag Saala Desg Bhi – Naasir Shehzaad

गाँव से गुज़रेगा और मिट्टी के घर ले जाएगा
एक दिन दरिया सभी दीवार ओ दर ले जाएगा – जमुना प्रसाद राही

Gaav Se Gujarega Aur Mitti Ke Ghar Le Jayega
Ek Din Dariya Sabhi Deewar – o-Dar Le Jayega – Jamuna Prashad Raahi

बस इस लिए ही गाँव से मैं शहर आ बसा
मैं क्या करूँगा रह के वहाँ आप के बिना -आदर्श दुबे

Bas Is Liye Hi Gaav Se Mai Shehar Aa Basa
Mai Kya Karunga Reh Ke Wahan Aap Ke Bina – Adarsh Dubey


Village Shayari In Hindi | गाँव पर शायरी​

मां ने अपने दर्द भरे खत में लिखा
सड़कें पक्की हैं अब तो गांव आया कर

Maa Ne Apne Dard Bhare Khat Me Likha
Sadke Pakki Hai Ab Toh Gaav Aaya Kar

शहर को छोड़ दो और गाँव को जाओ तुम भी
इस तअ’ल्लुक़ के तकल्लुफ़ को उठाओ तुम भी -अहमद सुहेल

Shehar Ko Chod Do Aur Gaav Ko Jaao Tum Bhi
Is Talluk Ke Takalluf Ko Uthaao Tum Bhi – Ahmad Suhail

शहरों की ख़ाक छान कर आया हूँ गाँव में
कितना सुकूँ मिला है दरख़्तों की छाँव में -सलीम बेताब

Sheharon Ki Khaak Chaan Kar Aaya Hu Gaav Me
Kitna Sukoon Milta Hai Darakhton Ki Chaao Me

गांवों में भीड़ बढ़ती जा रही है,
सुना है शहर में कोई बीमारी आयी है

Gaavo Me Bheed Badhati Ja Rahi Hai
Suna Hai Shehar Me Koi Bimaari Aayi Hai

मेरे गावों में आज भी जाता हूँ,
मेरा बचपन लौट आता हैं।

Mere Gaavo Me Aaj Bhi Jaata Hu
Mera Bachpan Laut Aata Hai

‘फ़रहत’ सुनाऊँ किस को कहानी मैं गाँव की
घर घर में ज़िंदा लाशें थीं मजबूर माओं की -फ़रहत अब्बास

‘Farhat’ Sunaun Kis Ko Kahani Mai Gaav Ki
Ghar-Ghar Me Zinda Lashein Thi Majboor Maao Ki – Farhat Abbas

मंज़र समेट लाए हैं जो तेरे गाँव के
नींदें चुरा रहे हैं वो झोंके हवाओं के -क़तील शिफ़ाई

Manjar Samet Laayein Hai Jo Tere Gaav Ke
Ninde Chura Rahe Hai Wo Jhoke Hawao Ke – Qateel Shifai

शहर मेरी मजबूरी गाँव मेरी आदत है
एक सानेहा मुझ पर इक मिरी विरासत है -नाज़िम नक़वी

Shehar Meri Majboori Gaav Meri Aadat Hai
Ek Saneha Mujh Par Ik Meri Virasat Hai – Nazim Naqvi

जो मेरे गाँव के खेतों में भूक उगने लगी
मिरे किसानों ने शहरों में नौकरी कर ली -आरिफ़ शफ़ीक़

Jo Mere Gaav Ke Kheto Me Bhook Ugane Lagi
Mere Kisaano Ne Sheharon Me Naukari Kar Li – Aarif Shafeek

तू ये न पूछ मिरे गाँव में हैं घर कितने
ये पूछ कौन से घर में अज़ाब कितने हैं – अमर सिंह फ़िगार

Tu Ye N Pooch Mere Gaav Me Hai Ghar Kitne
Ye Pooch Kaun Se Ghar Me Ajaab Kitne Hai – Amar Singh Figaar

नैनों में था रास्ता हृदय में था गाँव
हुई न पूरी यात्रा छलनी हो गए पाँव – निदा फ़ाज़ली

Naino Me Tha Raasta Hriday Me Tha Gaav
Hui N Poori Yatra Chalni Ho Gaye Paaw – Nida Fazli

अपने ही गाँव की सरहद पर पहुँच कर आज हम
पूछते हैं हम-सफ़र! ये कौन बस्ती आ गई – नश्तर ख़ानक़ाही

Apne Hi Gaav Ki Sarhad Par Pahuch Kar Aaj Hum
Poochate Hai Hum-Safar! Ye Kaun Basti Aa Gayi – Nashtar Khankaahi

मेरा बचपन भी साथ ले आया
गाँव से जब भी आ गया कोई – कैफ़ी आज़मी

Mera Bachpan Bhi Sath Le Aaya
Gaav Se Jab Bhi Aa Gaya Koi – Kaifi Azmi

प्यार का गाँव अजब गाँव है जिस में अक्सर
ख़त्म होती ही नहीं दुख की गली मीलों तक -कुंवर बेचैन

Pyaar Ka Gaav Ajab Gaav Hai Jis Me Aksar
Khatm Hoti Hi Nahi Dukh Ki Gali Meelon Tak – Kuwar Bechain

न आई रास बनावट की ज़िंदगी मुझ को
मैं शहर छोड़ के फिर आ गया हूँ गाँव में – जलील ’आली’

N Aayi Raas Banawat Ki Zindagi Mujh Ko
Mai Shehar Chod Ke Phir Aa Gaya Gaav Me – Jaleel ‘Aali’

मैं सोचता था कि लौटूँगा अजनबी की तरह
ये मेरा गाँव तो पहचानता लगे है मुझे – जाँ निसार अख़्तर

Mai Sochata Tha Ki Lautunga Ajanabi Ki Tarah
Ye Mera Gaav To Pehchane Lage Hai Mujhe – Jaan Nishar Akhtar

जिस की ख़ुशबू थी हमारे शहर में
गाँव का वो फूल वाला मर गया – तौसीफ ताबिश

Jis Ki Khusbu Thi Hamare Shehar Me
Gaav Ka Wo Phool Wala Mar Gaya – Tauseef Tabish

खेत की मिट्टी को वीराँ देख कर
गाँव वाले ढूँडने बादल गए – सदफ़ जाफ़री

Khet Ki Mitti Ko Veeran Dekh Kar
Gaav Wale Dhoondhne Badal Gaye – Sadaf Zafari

उस ने रोका मुझे शहर से आते वक़्त
मैं भी रोया बहुत गाँव जाते हुए – अफ़ज़ल अली अफ़ज़ल

Us Ne Roka Mujhe Shehar Se Aate Wakt
Mai Bhi Roya Bahut Gaav Jaate Hue – Afzal Ali Afzal

आज फिर माँ मुझे मारेगी बहुत रोने पर
आज फिर गाँव में आया है खिलौने वाला

Aaj Phir Maa Mujhe Maregi Bahut Rone Par
Aaj Phir Gaav Me Aaya Hai Khilaune Waala

अब के जब गाँव से लौटे तो ये एहसास हुआ
दुश्मनी ख़ून का रिश्ता भी नहीं छोड़ती है – मेराज फ़ैज़ाबादी

Ab Ke Jab Gaav Se Laute Toh Ye Ehsaas Hua
Dushmani Khoon Ka Rishta Bhi Nahi Chodati Hai– Meraj Faizabadi

दोस्तो क्या पूछते हो हाल इस के गाँव का
आइना लिपटा हुआ तालाब की काई में है – ख़लील रामपुरी

Doston Kua Poochate Ho Haal Is Gaav Ka
Aaina Lipata Hua Talaab Ki Kaayi Me Hai – Khaleel Rampuri

लौट कर आऊँगा फिर गाँव तुम्हारे इक दिन
अपने दरवाज़े पे इक दीप जलाए रखना – अब्दुल्लाह कमाल

Laut Kar Aaunga Phir Gaav Tumhare Ek Din
Apne Darwaaje Pe Ik Deep Jalaye Rakhna – Abdullah Kamaal

लहलहाते खेत नद्दी गाँव की प्यारी हवा
छोड़ कर बेकार आए हम तुम्हारे शहर में – सय्यद अहमद शमीम

Lahlahate Khet Nadi Gaav Ki Pyaari Hawa
Chod Kar Bekaar Aaye Hum Tumhare Shehar Me – Sayyed Ahmad Shameem
 
मॉडरेटर द्वारा पिछला संपादन:

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top