Tareef Shayari In Hindi | तारीफ शायरी

सुना है उस के बदन की तराश ऐसी है
कि फूल अपनी क़बाएँ कतर के देखते हैं -अहमद फ़राज़

Suna Hai Us Ke Badan Ki Tarash Aisi Hai
Ki Phool Apni Kabayein Qatar Ke Dekhte Hai – Ahmad Faraz

अब हम समझे तेरे चेहरे पे तिल का मतलब,
हुस्न की दौलत पे दरबान बिठा रखा है

Ab Hum Samjhe Tere Chehare Pe Til Ka Matlab
Husn Ki Daulat Pe Darbaan Bitha Rakha Hai

मिल जाएँगे हमारी भी तारीफ़” करने वाले.
कोई हमारी मौत की “अफ़वाह” तो फैलाओ यारों

Mil Jayenge Hamrai Bhi Tareef Karne Waalw
Koi Hamari Maut Ka Afwaah Toh Faila Do

जलवे मचल पड़े तो सहर का गुमाँ हुआ,
ज़ुल्फ़ें बिखर गईं तो स्याह रात हो गई

Jalwe Machal Pade Toh Sahar Ka Gumaan Hua
Zulfein Bikhar Gayi Toh Syaah Raat Ho Gayi

क्या लिखूं तेरी तारीफ-ए-सूरत में यार,
अलफ़ाज़ कम पड़ रहे हैं तेरी मासूमियत देखकर

Kya Likhu Teri Tareef-e-Soorat Me Yaar
Alfaaz Kam Pad Rahe Hai Teri Masoomiyat Dekhkar

आइना देख के कहते हैं सँवरने वाले
आज बे-मौत मरेंगे मिरे मरने वाले -दाग़ देहलवी

Aaina Dekh Ke Kehte Hai Sawarne Waale
Aaj Be-Maut Marenge Mere Marne Waale– Dagh Dehalvi

आसमां में खलबली है सब यही पूछ रहे हैं,
कौन फिरता है ज़मीं पे चाँद सा चेहरा लिए

Aaasmaan Me Khalbali Hai Sab Yahi Pooch Rahe Hai
Kaun Phirta Hai Zameen Pe Chand Sa Chehra Liye


तेरी ज़ुल्फ़ों की घटाओं का मुंतज़िर हुआ जाता हूँ,
अब ये आलम है कि बारिश भी सूखी सी लगती है

Teri Zulfon Ki Ghataon Ka Muntazir Hua Jaata Hoon
Ab Ye Alam Hai Ki Barish Bhi Sookhi Si Lagti Hai

खूबसूरती ना सूरत में है, ना लिबास में,
ये निगाहें जिसे चाहे हसीन कर दें

Khoobsurati Na Surat Me Hai
Ye Nigaahein Jise Chahe Haseen Kar De

इश्वा भी है शोख़ी भी तबस्सुम भी हया भी,
ज़ालिम में और इक बात है इस सब के सिवा भी

Ishwa Bhi Hai Sokhi Bhi, Tabassum Bhi, Haya Bhi
Zaalim Me Aur Ik Baat Hai Is Baat Ke Siva Bhi

अब तक मेरी यादों से मिटाए नहीं मिटता,
भीगी हुई इक शाम का मंज़र तेरी आँखें

Ab Tak Meri Yaadon Se Mitaaye Nahi Mitata
Bheegi Hui Ik Shaam Ka Manjar Teri Aankhe

उस के चेहरे की चमक के सामने सादा लगा
आसमाँ पे चाँद पूरा था मगर आधा लगा -इफ़्तिख़ार नसीम

Us Ke Chehre Ki Chamak Ke Saamne Saada Laga
Aasma Pe Chand Poora Tha Magar Aadha Laga – Iftikhaar Naseem

ऐ सनम जिस ने तुझे चाँद सी सूरत दी है
उसी अल्लाह ने मुझ को भी मोहब्बत दी है -हैदर अली आतिश

Ae Sanam jis Ne Tujhe Chand Si Soorat Di Hai
Usi Allah Ne Mujh Ko Bhi Mohabbat Di Hai – Haidar Ali Tabish

हम पर यूँ बार बार इश्क का इल्जाम न लगाया कर,
कभी खुद से भी पूंछा है इतनी खूबसूरत क्यों हो

Hum Par Yun Baar-Baar Ishq Ka Ilzaam N Lagaaya Kar
Kabhi Khud Se Bhi Poocha Hai Itni Khoobsoorat Kyo Ho

चाँद के दीदार को तुम छत पर क्या चले आये,
शहर में ईद की तारीख मुकम्मल हो गयी

Chand Ke Deedaar Ko Tum Chat Par Kya Chale Aaye
Shehar Me Eid Ki Taarikh Mukammal Ho Gayi

उफ़ वो संगमरमर से तराशा हुआ शफ़्फ़ाफ़ बदन
देखने वाले जिसे ताज महल कहते हैं

Uff Wo Sangmarmar Se Tarasha Hua Shaffaf Badan
Dekhne Waale Jisko Taajmahal Kehte Hai

किसी कली किसी गुल में किसी चमन में नहीं
वो रंग है ही नहीं जो तिरे बदन में नहीं -फ़रहत एहसास

Kisi Kali Kisi Gul Me Kisi Chaman Me Nahi
Wo Rang Hai Hi Nahi Jo Tere Badan Me nahi – Farhat Ehsaas

हम तो अल्फाज़ ही ढूढ़ते रह गए,
और वो आँखों से गज़ल कह गए

Hum Toh Alfaaz Hi Dhoondhte Reh Gaye
Aur Wo Aankho Se Ghazal Keh Gaye

आँखे झीलों की तरह होंठ गुलाबो जैसे
अब भी होते है कई लोग किताबो जैसे

Aankh Jheelon Ki Tarah Honth Gulaabon Jaise
Ab Bhi Hote Hai Kai Log Kitaabon Jaise

कांच का जिस्म कहीं टूट न जाये
हुस्न वाले तेरी अंगड़ाइयो से डर लगता है

Kaanch Ka Jism Kahin Toot Jaaye
Husn Waale Teri Angdaai Se Darr Lagta Hai

पता नहीं लबों से लब कैसे लगा लेते हैं लोग
तुमसे नजरें भी मिल जाये तो होश नहीं रहता

Pata Nahi Labon Se Lab Kaise Laga Lete Hai Log
Tumse Nazrein Bhi Mil Jaaye Toh Hosh Nahi Rehta

ऐ चाँद मत कर इतना गुरुर… तुझमें तो दाग है,
पर मेरे वजूद में जो चाँद सिमटा है वो बेदाग है

Ae Chand Mat Kar Itna Guroor…Tujhme Toh Daag Hau
Par Mere Wajood Me Jo Chand Simta Hai Wo Bedaag Hai

बहुत दिनों से मिरे साथ थी मगर कल शाम
मुझे पता चला वो कितनी ख़ूबसूरत है -बशीर बद्र


Bahut Dino Se Mere Sath Thi Magar Kal Shaam
Mujhe Pata Chala Wo Kitni Khoobsurat Hai – Bashir Badr

तेरा चेहरा कितना सुहाना लगता है
तेरे आगे चाँद पुराना लगता है -कैफ़ भोपाली

Tera Chehra Kitna Suhaana Lagta Hai
Tere Aage Chand Kitna Puraana Lagta Hai – Kaif Bhopali

आज उसकी मासूमियत के कायल हो गए,
सिर्फ उसकी एक नजर से ही घायल हो गए

Aaj Uski Massomiyat Ke Kayal Ho Gaye
Sirf Uski Ek Nazar Se Hi Ghayal Ho Gaye

एक लाइन में क्या तेरी तारीफ़ लिखू
पानी भी जो देखे तुझे तो प्यासा हो जाये

Ek Line Me Kya Teri Taareef Likhu
Paani Bhi Jo Dekhe Tujhe Toh Pyaasa Ho Jaaye

जिस भी फ़नकार का शहकार हो तुम
उस ने सदियों तुम्हें सोचा होगा -अहमद नदीम क़ासमी

Jis Bhi Fankaar Ka Shehkaar Ho Tum
Us Ne Sadiyon Tumhe Socha Hoga – Ahmad Nadeem Qaasmi

वो मुझसे रोज़ कहती थी मुझे तुम चाँद लाकर दो,
उसे एक आईना देकर अकेला छोड़ आया हूँ

Wo Mujhse Roz Kehti Thi Chand Lakar Do
Use Ek Aaina Dekar Akela Chod Aaya Hoon

रुख से पर्दा हटा तो, हुस्न बेनकाब हो गया,
उनसे मिली नज़र तो, दिल बेकरार हो गया

Rukh Se Parda Hata Toh, Husn Be-Naqaab Ho Gaya
Unse Mili Nazar Toh, Dil Be-Karaar Ho Gaya

यूँ न निकला करो आज कल रात को,
चाँद छुप जायेगा देख कर आप को

Yun N Nikla Karo Aajkal Raat Ko
Chand Chup Jayega Dekhkar Aap Ko

तारीफ़ अपने आप की, करना फ़िज़ूल है,
ख़ुशबू तो ख़ुद ही बता देती है, कौन सा फ़ूल है

Tareef Apne Aap Ki Karna Fijool Hai
Khusbu Bhi Khud Batati Hai, Kaun Sa Phool Hai

अपनी ही तेग़-ए-अदा से आप घायल हो गया
चाँद ने पानी में देखा और पागल हो गया -मुनीर नियाज़ी

Apni Hi Teg-e-Ada Se Aap Ghayal Ho Gaya
Chand Ne Paani Me Dekha Aur Pagal Ho Gaya

इस दिल में तिरे हुस्न की वो जल्वागरी है
जो देखे है कहता है कि शीशे में परी है -जोश मलीहाबादी

Is Dil Me Tere Husn Ki Wo Jalwagiri Hai
Jo Dekhe Kehta Hai Sishe Me Pari Hai

क़यामत टूट पड़ती है ज़रा से होंठ हिलने पर,
ना जाने हश्र क्या होगा अगर वो मुस्कुराये तो

Kyamat Toot Padti Hai, Zara Se Honth Hilne Par
Na Jaane Hashr Kya Hoga Agar Wo Mushkuraaye To

ये अदा ये अंदाज यु मुस्कराना तेरा,
कईयों को डुबो गया आखो के सागर में

Ye Ada Ye Andaaz Yun Muskuraana Tera
Kaiyon Ko Dubo Gaya Aankho Ke Sagar Me


हुस्न ये है कि दिलरुबा हो तुम
ऐब ये है कि बेवफ़ा हो तुम -जलील मानिकपूरी

Husn Ye Hai Ki Dilruba Ho Tum
Aib Ye Hai Ki Bewafa Ho Tum– Jaleel Mankipuri

ये आईने ना दे सकेंगे तुझे तेरे हुस्न की खबर,
कभी मेरी आँखों से आकर पूछो के कितनी हसीन हों तुम

Ye Aaine Na De Sakenge Tujhe Tere Husn Ki Khabar
Kabhi Meri Aankho Se Akar Poocho Ke Kitni Haseen Ho Tum

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं

Is Saadgi Pe Kaun N Mar Jaaye Ae Khuda
Ladte Hai Aur Hath Me Talwaar Bhi Nhi

उफ्फ ये नज़ाकत ये शोखियाँ ये तकल्लुफ़,
कहीं तू उर्दू का कोई हसीन लफ्ज़ तो नहीं

Uff Ye Najakat Ye Sokhiyaan Ye Takalluf
Kahin Tu Urdu Ka Koi Haseen Lafz Toh nahi

निगाह उठे तो सुबह हो… झुके तो शाम हो जाये,
एक बार मुस्कुरा भर दो तो कत्ले-आम हो जाये

Nigaah Uthe Toh Subah HO…Jhuke Toh Shaam Ho Jaaye
Ek Baar Muskura Bhar Do Toh Katl-e-Aam Ho Jaaye

गिरता जाता है चहरे से नकाब अहिस्ता-अहिस्ता,
निकलता आ रहा है आफ़ताब अहिस्ता-अहिस्ता

Girta Jaata Hai Chehre Se Naqaab Aahista – Aahista
Nikalta Aa Raha Hai Aaftaab Aahista-Aahista

ये दिलबरी, ये नाज़, ये अंदाज़, ये जमाल,
इंसान करे अगर न तेरी चाह… क्या करे

Ye Dilbari, Ye Naaz, Ye Andaaz, Ye Zamaal
Insaan Kare Agar N Teri Chaah…Kya Kare

क्या लिखूँ तेरी सूरत – ए – तारीफ मेँ , मेरे हमदम
अल्फाज खत्म हो गये हैँ, तेरी अदाएँ देख-देख के

Kya Likhun Teri Soorat-e-Tareef Me, Mere Humdum
Alfaaz Khatm Ho Gaye, Teri Adayen Dekh-Dekh Ke

तुझको देखा तो फिर किसी को नहीं देखा,
चाँद कहता रहा मैं चाँद हूँ… मैं चाँद हूँ

Tujhko Dekha Toh Phir Kisi Ko Nahi Dekha
Chand Kehta Raha Mai Chand Hoon…Mai Chand Hoon

तुझको देखेंगे सितारे तो स्याह माँगेंगे,
और प्यासे तेरी ज़ुल्फों से घटा माँगेंगे,

Tujhko Dekhenge Sitaare Toh Ziyaa Mangenge
Aur Pyaase Teri Zulfon Se Ghata Magenge

कैदखाने हैं बिना सलाखों के,
कुछ यूं चर्चे हैं तेरी आँखों के

Kaid-Khaane Hai Bin Salaakho Ke
Kuch Yun Charche Hai Teri Aankho Ke

तुम्हारा हुस्न आराइश तुम्हारी सादगी ज़ेवर
तुम्हें कोई ज़रूरत ही नहीं बनने सँवरने की -असर लखनवी

Tumhara Husn Araaish Tumhari Saadhi Jevar
Tumhe Koi Jarurat Hi Nahi Banane Savarne Ki – Asar Lakhnawi
 
मॉडरेटर द्वारा पिछला संपादन:

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top