Shayari On Age | उम्र पर शायरी

तमाम उम्र मैं आँसू बहाऊँगा ‘अख़्तर’
तमाम उम्र ये सदमा रहेगा मेरे साथ – अख़्तर अंसारी

Tamaam Umr Mai Aansu Bahaunga “Akhtar”
Tamaam Umr Ye Sadama Rahega Mere Sath – Akhtar Ansari

इश्क़ को एक उम्र चाहिए और
उम्र का कोई ए’तिबार नहीं – जिगर बरेलवी

Ishq Ko Ek Umr Chahiye
Aur Umr Ka Koi Aitbaar Nahi – Jigar Barelavi

मैं रहा उम्र भर जुदा ख़ुद से
याद मैं ख़ुद को उम्र भर आया – जौन एलिया

Mai Raha Umr Bhar Juda Khud Se
Yaad Mai Khud Ko Umr Bhar Aaya – Jaun Elia

उम्र भर उस ने बेवफ़ाई की
उम्र से भी वो बा-वफ़ा न रहा – वज़ीर आग़ा

Umr Bhar Usne Bewafaayi Ki
Umr Se Bhi Wo Ba-wafa N Raha – Wajeer Aaga

हँसने-हँसाने पढ़ने-पढ़ाने की उम्र है
ये उम्र कब हमारे कमाने की उम्र है – अज़हर फ़राग़

Hasne – Hasane Padhne Padhane Ki Umr Hai
Ye Umr Kab Hamare Kamane Ki Umr Hai – Azhar Farag


मेरी लिखने में उम्र गुज़री है
तेरी पढ़ने की उम्र है लड़की – राहील फ़ारूक़

Meri Likhne Me Umr Gujri Hai
Teri Padhne Ki Umr Hai Ladki – Raheel Faruk

उम्र गुज़री उस का चेहरा देखते
और जी लेते तो दुनिया देखते – विपुल कुमार

Umr Gujri Uska Chehara Dekhte
Aur Ji Lete Toh Duniya Dekhte – Vipul Kumar

उम्र गुज़री जिस का रस्ता देखते
आ भी जाता वो तो हम क्या देखते – जमाल एहसानी

Umr Gujri Jis Ka Rasta Dekhte
Aa Bhi Jaata Wo Toh Hum Kya Dekhte – Jamaal Ehsaani

ये उम्र गुज़री है इतने सितम उठाने में
कि ख़ौफ़ आता है अगला क़दम उठाने में – राशिद तराज़

Ye Umr Gujri Hai Itne Sitam Uthaane Me
Ki Khauf Aata Hai Agla Kadam Uthaane Me – Rashid Taraz

यूँ मोहब्बत को उम्र-भर पढ़ना
ज़िंदगी इम्तिहान हो जैसे – बशीर महताब

Yun Mohabbat Ka Umr Bhar Padhana
Zindagi Imtihaan Ho Jaise – Basheer Mehtaab

तमाम उम्र बड़े सख़्त इम्तिहान में था
वो फ़ासला जो तिरे मेरे दरमियान में था – वसीम बरेलवी

Tamaam Umr Bade Sakht Imtihaan Me Tha
Wo Fasala Jo Tere Mere Darmiyaan Me Tha – Waseem Barelavi

ता उम्र फिर न होगी उजालों की आरज़ू
तू भी किसी चराग़ की लौ से लिपट के देख – नज़ीर बाक़री

Ta Umr Phir N Hogi Ujaalon Ki Aarjoo
Tu Bhi Kisi Chiraag Ki Lau Se Lipat Ke Dekh – Nazeer Bakari

इक नया ज़ख़्म मिला एक नई उम्र मिली
जब किसी शहर में कुछ यार पुराने से मिले – कैफ़ भोपाली

Ek Naya Zakhm Mila Ek Nayi Umr Mili
Jab Kisi Shehar Me Kuch Yaar Puraane Se Mile – Kaif Bhopali

ज़िंदगी को इक जुए की तरह खेला उम्र भर
और कोई बाज़ी किसी मंज़िल पे भी हारा नहीं – अख़तर बस्तवी

Zindagi Ko Ek Juye Ki Tarah Khela Umr Bhar
Aur Koi Baazi Kisi Manzil Pe Bhi Haara Nahi – Akhtar Bastavi

लगे थे ग़म तुझे किस उम्र में ज़माने के
वही तो दिन थे तिरे खेलने के खाने के – शहज़ाद अहमद

Lage The Gum Tujhe Kis Umr Ke Zamane Ke
Wahi Toh Din The Tere Khelne Ke Khaane Ke – Shehjaad Ahmad

ज़िंदगी से उम्र-भर तक चलने का वादा किया
ऐ मिरी कम्बख़्त साँसो हाए तुम ने क्या किया – गौतम राजऋषि

Zindagi Se Umr Bhar Tak Chalne Ka Waada Kiya
Ae Meri Kambakht Sanso Haaye Tum Ne Ye Kya Kiya – Gautam Rajrishi

उम्र भर की बात बिगड़ी इक ज़रा सी बात में
एक लम्हा ज़िंदगी भर की कमाई खा गया – नज़ीर बनारसी

Umr Bhar Ki Baat Bigadi Ik Zara Si Baat Par
Ek Lamha Zndagi Bhar Ki Kamaayi Kha Gaya – Nazeer Bakari


उम्र भर दुनिया को समझाता रहा
ख़ुद फ़रेब-ए-ज़िंदगी खाता रहा – रईस नियाज़ी

Umr Bhar Duniya Ko Samjhata Raha
Khud Fareb-e-Zindagi Khaata Raha – Rasees Niyaazi

दर्द-ए-दिल उम्र-भर नहीं होता
इश्क़ तुम से अगर नहीं होता – रघुनंदन शर्मा दानिश

Dard-e-Dil Umr Bhar Nahi Hota
Ishq Tumse Agar Nahi Hota – Raghunandan Sharma Danish

उम्र भर चलता रहूँ ये हादिसा रहने दिया
उस ने मंज़िल छीन ली और रास्ता रहने दिया – अन्दाज़ अमरोहवी

Umr Bhar Chalata Rahu Ye Hadasa Rahne Diya
Us Ne Manzil Cheen Li Aur Raasta Rehne Diya – Andaaz Amrohavi

इक उम्र भटकते रहे घर ही नहीं आया
साहिल की तमन्ना थी नज़र ही नहीं आया – अख़तर शाहजहाँपुरी

Ik Umr Bhatakte Rahe Ghar Nahi Aaya
Saahil Ki Tamanna Thi Nazar Hi Nahi Aaya – Akhtar Shahjahapuri

तमाम-उम्र चला हूँ मगर चला न गया
तिरी गली की तरफ़ कोई रास्ता न गया – नक़्श लायलपुरी

Tamaam-Umr Chala Hu Magar Chala N Gaya
Teri Gali Ki Taraf Koi Raasta N Gaya – Naksh Layalpuri

तमाम उम्र का हासिल है बे-बसर होना
ज़ियादा इस से भी मुश्किल है बा-ख़बर होना – रौनक़ शहरी

Tamaam Umr Ka Hassil Hai Be-Sabar Hona
Jyada Is Se Bhi Mushkil Hai Ba-Khabar Hona – Raunak Shehari

उम्र भर ठोकरें खा-खा के सँभलते रहना
हौसला जीने का रखते हो तो चलते रहना – रिज़वान हैदर

Umr Bhar Thokare Kha-Kha Ke Sambhalte Rehna
Hausala Jeene Ka Rakhte Ho Toh Chalte Rehna – Rizwan Haidr

क्यूँ तिरे साथ रहीं उम्र बसर होने तक
हम न देखेंगे इमारत को खंडर होने तक – रहमान फ़ारिस

Kyu Tere Sath Rahi Umr Basar Hone Tak
Hun N Dekhenge Imarat Ko Khandar Hone Tak – Rehmaan Faris

न जाने किस की हमें उम्र भर तलाश रही
जिसे क़रीब से देखा वो दूसरा निकला – ख़लील-उर-रहमान आज़मी

N Jaane Kis Ki Hamein Umr Bhar Talash Rahi
Jise Kareeb Se Dekha Wo Doosara Nikla – Khaleel Ur-Rehmaan Aazami
 
मॉडरेटर द्वारा पिछला संपादन:

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,883
सदस्य
239
नवीनतम सदस्य
Sanjay Banjara
Back
Top