Naqaab Shayari In Hindi | नक़ाब शायरी

जलवों की साजिशों को न रखो हिजाब में,
ये बिजलियाँ हैं रुक न सकेंगीं नक़ाब में

Jalwo Ki Saazishon Ko N Rakho Hizaab Me
Ye Bijaliyaan Hai N Ruk Sakengi Naqaab Me

हसीन रुख़ पे अभी तुम नक़ाब रहने दो
न खोलो बंद ग़ज़ल की किताब रहने दो– आतिश रज़ा

Haseen Rukh Pe Abhi Tum Naqaab Rahne Do
N Kholo Band Ghazal Ki Kitaab Rahne Di – Aatish Raza

बड़ी आरज़ू थी मोहब्बत को बेनकाब देखने की,
दुपट्टा जो सरका तो जुल्फें दीवार बन गयीं

Badi Aarju Thi Mohabbat Ko Be-naqaab Dekhne Ki
Dupatta Jo Sarka Toh Zulfein Deewar Ban Gayi

तेरे चेहरे को बे-नक़ाब करें
ज़िंदगी चल तिरा हिसाब करें – प्रज्ञा शर्मा

Tere Chehre Ko Be-Naqaab Karein
Zindagi Chal Tera Hisaab Karein – Pragya Sharma

मुझको ये आरज़ू वो उठाएं नकाब खुद,
उन को ये इंतज़ार तकाजा करे कोई।

Mujhko Ye Aarju Wo Uthaaye Naqaab Khud
Un Ko Ye Intezaar Takaaza Kare Koi

खुद न छुपा सके वो अपना चेहरा नक़ाब में,
बेवज़ह हमारी आँखों पे इल्ज़ाम लग गया।

Khud N Chupa Sake Wo Chehra Naqaab Me
Be-wajah Hamari Aankho Pe Ilzaam Lag Gaya


तुम जो पर्दे में सँवरते हो नतीजा क्या है
लुत्फ़ जब था कि कोई देखने वाला होता – जलील मानिकपूरी

Tum Jo Parde Me Sawarte Ho Nateeja Kya Hai
Lutf Jab Tha Ki Koi Dekhne Wala Hota – Zaleel Manikpuri

उनके खूबसूरत चेहरे से नकाब क्या उतरा,
जमाने भर की नीयत बेनकाब हो गई।

Unke Chehre Se Naqaab Kya Utra
Zamane Bhar Ki Niyat Be-Naqaab Ho Gayi

रुख़ पे अपने नक़ाब रहने दे
दरमियाँ इक हिजाब रहने दे – इब्राहीम ख़लील

Rukh Pe Apna Naqaab Rahne De
Darmiyaan Ik Hijaab Rahne De – Ibrahim Khalid

नक़ाब क्या छुपाएगा शबाब-ए-हुस्न को,
निगाह-ए-इश्क तो पत्थर भी चीर देती है।

Naqaab Kya Chupayega Shabaab-e-Husn Ko
Nigaah-e-Ishq Toh Patthar Bhi Cheer Deti Hai

चेहरे पे न ये नक़ाब देखा
पर्दे में था आफ़्ताब देखा – मोहम्मद रफ़ी सौदा

Chehre Pe N Ye Naqaab Dekha
Parde Me Tha Aaftaab Dekha – Mohammad Rafi Sauda

वो बे-नकाब जो फिरती है गली-कूंचों में,
तो कैसे शहर के लोगों में क़त्ल-ए-आम न हो।

Wo Be-Naqaab Jo Phirti Hai Gali Kuncho Me
Toh Kaise Shehar Ke Logon Me Katl-e-Aam N Ho

इतने हिजाबों पर तो ये आलम है हुस्न का
क्या हाल हो जो देख लें पर्दा उठा के हम – जिगर मुरादाबादी

Itne Hizaabon Par Toh Ye Aalam Hai Husn Ka
Kya Haal Ho Jo Dekh Le Parda Utha ke Hum – Jigar Muradabadi

इश्क़ को बे-नक़ाब होना था
आप अपना जवाब होना था – जिगर मुरादाबादी

Ishq Ko Be-Naqaab Jona Tha
Aap Apna Jawaab Hona Tha – Jigar Muradabadi

इस दौर में इंसान का चेहरा नहीं मिलता
कब से मैं नक़ाबों की तहें खोल रहा हूँ – मुग़ीसुद्दीन फ़रीदी

Is Daur Me Insaan Ka Chehra Nahi Milta
Kab Se Mai Naqaabon Ki Tahein Khol Raha Hu – Mugisuddin Faridi

जो पर्दों में ख़ुद को छुपाए हुए हैं
क़यामत वही तो उठाए हुए हैं – हफ़ीज़ बनारसी

Jo Pardon Me Khud Ko Chupaye Hue Hai
Qayamat Wahi Toh Uthaye Hue Hai – Hafeez Banarasi
 
मॉडरेटर द्वारा पिछला संपादन:

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top