MERI KADAR TUJHE US DIN SAMAJH AYEGI | GOONJ CHAND | POETRY

MERI KADAR TUJHE US DIN SAMAJH AYEGI | GOONJ CHAND | POETRY


मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी ‘
“जिस दिन तेरी जैसी कोई तुझे मिल जायगी “

—–

‘जो होगी फ्री पूरा पूरा दिन ‘
“पर फिर भी बिजी होने का मैसेज चिपकाएगी “
“‘मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी “

—–

जाएगा जब तू कुछ वक़्त बिताने उसके साथ ‘
“तब तुझे फुल इग्नोर कर वो अपना सारा टाईम “
‘अपने मोबाइल पर बिताएगी ‘
“मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी “

—–

‘भले ही 24 घंटे अपडेट रहेगी वो व्हाटसप पर ‘
“पर तेरे साथ अपनी डी. पी. कभी नहीं लगाएगी “
‘मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी ‘

—–

‘कभी-कभी कर भी लेगी प्यार भरी दो चार बाते तुझसे ‘
“पर तेरे बिमार होने पर पूरी रात तेरे सिर के पास नहीं बिताएगी “
‘मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी ‘

—–

‘ले आएगी बाहर से तेरी पसंद का खाना भी कभी-कभी ‘
“पर रात के दो बजे उठकर तेरे लिए आलू के पराठे नहीं बनाएगी “
‘मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी ‘

—–

‘मिल वायेगी बेशक अपने दोस्तो से भी वो तुझे ‘
“पर अपना जस्ट फ्रेंड कहकर तुझे इंट्रोड्यूस करवाएगी “

—–

‘मेरी कदर तुझे उस दिन समझ आएगी ‘
“जिस दिन तेरी जैसी कोई तुझे मिल जायगी “
 

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top