TERI AWARGI KO HUM TERI SADGI SAMAJH BAITHE | GOONJ CHAND | POETRY

TERI AWARGI KO HUM TERI SADGI SAMAJH BAITHE | GOONJ CHAND | POETRY


तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे
फुर्सत में बिताये तेरे कुछ लम्हो को हम पूरी ज़िन्दगी समझ बैठे
तेरी तो आदत थी शायद हर किसी पे मर मिटने की
पर हमी खुद को उनसब में खास समझ बैठे

कियोकी तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे

मानते है खुद कभी इजहार नहीं किया तुमने
पर तेरे इंकार न करने को भी हम इकरार समझ बैठे

तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे

—तूने तो सुन कर भी अनसुने कर दिए मेरे अलफ़ाज़
और हम थे की तेरे अनसुने जज्बात भी समझ बैठे

तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे

—लो बना ही डाला मैंने खुद को एक सख्त पत्थर की तरह
कियोकी तुम जो मुझे रेत् का अम्बार थे समझ बैठे
तेरी आवारगी को हम तेरी सादगी समझ बैठे
फुर्सत में बिताये तेरे कुछ लम्हो को हम पूरी ज़िन्दगी समझ बैठे
 

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top