Tere Intezaar Mein | Ravie Solanky | The Social House Poetry

Tere Intezaar Mein | Ravie Solanky | The Social House Poetry


इस कविता के बारे में :

इस काव्य ‘तेरे इंतज़ार में’ को Social House के लेबल के तहत रवी सोलंकी ने लिखा और प्रस्तुत किया है।

*****

एक इंतज़ार की आदत सी होने लगी है

हमे तन्हाई से मोहब्बत होने लगी है


***

चुप रहे ये लब अब यही मुनासिब है

खामोशियाँ अपना जादू करने लगी है


***

ना शिकवा न गिला न शिकायत है किसी से

हमे अपने ही इश्क़ से गलतफैमियाँ होने लगी है


***

बनाने लगे थे जिस रेत से महल अपना

अब वही रेत हाथ से बिखरने लगी है


***

न काबिल हु में अब बैत-ए-इश्क़ सजाने में

ये ग़ैर मश्रूत इश्क़ की सज़ा लगने लगी है

ये ग़ैर मश्रूत इश्क़ की सज़ा लगने लगी है

 

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,886
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top