Create a Trigger in mysql in Hindi

Hello friends ! इस पोस्ट में हम MySQL में Trigger के बारें में बात करेगे इसके बारें में समझेगे,
तो चलिए शुरू करते है:-

MySQL Trigger in Hindi, How does it work?​

यदि triggers की बात करें तो एक trigger database object होता है जो table से associated रहता है। जब भी उस table पर कोई event generate होता है तो trigger execute हो जाता है।

Trigger संग्रहित (stored) प्रोग्राम्स होते है जब कभी table में कोई action जैसे:-insert, delete, update किया जाता है, तो triggers अपने आप स्वयं execute हो जाते है।

Triggers database administrators का काम थोड़ा easy बना देते है। क्योंकि triggers के माध्यम से आप tasks को automate कर सकते है जिससे database administrators को उन्हेंmanually perform नहीं करना पड़ता है।

Triggers के द्वारा आप table पर validation perform कर सकते है। उदाहरण के लिए यदि आप table में कोई नयी row insert कर रहे है तो इससे पहले की pass की गयी values tableमें insert हो आप check कर सकते है की values valid है या नहीं।

किसी भी trigger को temporary table या view से associate नहीं किया जा सकता है। ये केवल permanent table के साथ ही associated रहता है।

Create Trigger in MySQL​

Mysql >
CREATE TRIGGER trigger_name>
TRIGGER-TIME TRIGGER-EVENT on TABLE-NAME >
FOR EACH ROW>BEGIN >
trigger_body>END

Trigger के 2 Elements Define किये गए है।

Trigger-Time​

ये trigger का execution time होता है। जैसा की आपको ऊपर के topic में बताया गया था, की trigger किसी event से पहले execute होते है या बाद में execute होते है। इससे आप ये define करते है की trigger कब execute होगा। इसकी दो प्रकार की value होती है। आइये जानते हैं।

1.Before:– जब आप चाहते है की trigger event से पहले execute हो तो आप trigger time Before set कर सकते है।

2.After:– यदि आप trigger को event के बाद में execute करना चाहते है तो trigger time After set कर सकते है।

Trigger-Event:– Trigger events INSERT, UPDATE और DELETE होते है। आप जिस पर भी trigger fire करना चाहे उसे trigger time के बाद define कर देते है।

Types of Triggers​

Trigger चार प्रकार के होते है:-

1.Row Trigger:-
जब प्रत्येक row में update, deletion, तथा insertion होता है तो तब Row level trigger घटित होता है।

2.Statement Trigger:- जब प्रत्येक SQL स्टेटमेंट execute होता है तब statement level trigger घटित होता है।

3.Before Trigger:- जब trigger action निर्धारित करती है कि trigger statement को पूरा करने की अनुमति दी जानी चाहिए या नहीं। इस उद्देश्य के लिए BEFORE trigger का उपयोग करके, आप उन trigger statement के unnecessary processing को समाप्त कर सकते हैं और उन मामलों में इसका अंतिम rollback कर सकते हैं जहां trigger action में एक अपवाद उठाया जाता है।

Trigger INSERT or UPDATE statement को पूरा करने से पहले विशिष्ट (specific) column values प्राप्त करने के लिए derive किया जाता है।

4.AFTER Trigger:- DML statement पूरा होने के बाद AFTER ट्रिगर को executed किया जाता है लेकिन इससे पहले कि यह डेटाबेस के लिए प्रतिबद्ध (committed) हो। यदि आवश्यक हो तो ट्रिगर के बाद इसे DML statement को लागू करने के लिए action और source DML कर सकते हैं।

Trigger statement चलने के बाद AFTER trigger action चलाते हैं। AFTER trigger का उपयोग तब किया जाता है जब आप trigger action को execute करने से पहले trigger statement को पूरा करना चाहते हैं।
 

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,887
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top