Oops का Concept क्या हैं ? Oops Concept in Hindi

Hello Friends! इस post में आपको Oops के Concepts के बारें में बताया जायेगा तथा यह क्या होता है इसके बारें में भी बात करेगे, तो चलिए शुरू करते है:-

Oops का Concept क्या हैं, कैसे काम होता हैं?​

OOPS का पूरा नाम object oriented programming (ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग) है। OOPS एक प्रोग्रामिंग Language की श्रेणी हैं, जिसकी रचना Objects पर की गयी हैं।

ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग में process किए जाने वाले data पर अधिक ध्यान दिया जाता हैं, न की प्रोग्राम के लॉजिक पर।

Oops के Concepts – (types) इस प्रकार है।
  1. Class
  2. Object
  3. Inheritance
  4. Abstraction
  5. Encapsulation
  6. Polymorphism

Class (क्लास)​

Class जो होती है। वह एक ही प्रकार के objects का समूह कहलाती है। जैसे:- आलू, टमाटर तथा प्याज आदि ये सब सब्जिया है, और ये सभी vegitable class के सदस्य होगे।

Program में एक बार class को परिभाषित किए जाने के बाद, programmer अपनी इच्छा अनुसार objects बना सकता है।

Class user के द्वाराdefine किया गया हुआ एकdata type होता है और एक class, data तथा functions का समूह होती है।

Object (ऑब्जेक्ट्स)​

Object, एक basic run-time entity होता है। Object एक class का variable होता हैं, Object जैसे:- mobile, व्यक्ति, bike, घड़ी, TVetc. सभी Objects ही है। एक class में एक या उससे अधिक objects भी हो सकते हैं। object, create होने के बाद यह memory मे variables के सामान ही space लेता है।

Encapsulation (एनकैप्सूलेशन)

Data और Function को एक साथ जोड़ने को oops में Encapsulation कहलाता है। Encapsulation का उपयोग data और function को बहरी interfarance से बचाने के लिए किया जाता हैं। यह class का सबसे important feature है।

Inheritance (इनहेरिटेंस)

यह OOPs का एक importaint feature है, Inheritance का अर्थ होता हैं, ‘विरासत’ में मिला हुआ। एक class के properties (गुणों) को दूसरी class में use करना ही inheritance कहलाता है। Inheritance के उपयोग से Derived class का object, base class के object के properties को access कर use कर सकता हैं।

किसी एक class मे नए properties को add करने के लिए एक नई class बनाकर उसमें पुरानी वाली class के properties features को भी add कर दिया जाता है और नई class मे new codes भी add कर दिये जाते हैं।

Abstraction (अब्स्ट्रेक्शन)

Abstraction का अर्थ है, एक समस्या का कई प्रकार से परिक्षण करना। डाटा अब्स्ट्रेक्शन का मुख्य उद्देश हैं की, ऐसे Object को चुनना जो Program के लिए जरुरी हैं। और बचे हुए को छोड़ना जोकि महत्वपूर्ण नहीं हैं।

(आसान शब्दों में)… Abstraction का अर्थ है कि object के केवल आवश्यक जानकारी को दिखाना तथा जो जरुरी नहीं होता background की जानकारी को छुपाये रखना।

Polymorphism (पॉलिमोरफिज़म)

Polymorphism जिसमें poly का अर्थ है many और morphism का अर्थ है forms. तो polymorphism का अर्थ हुआ many forms. अर्थात दो लग तरीको से करना.

आसान शब्दों में Polymorphism अर्थ हैं, एक काम को दो अलग तरीको से करना, एक strucher (जिसमें data items, function, classes भी होती हैं ) जैसे + operator numerical addition और strings को जोड़ने के लिये use होता हैं।

जावा में Polymorphism दो तरह की होती है।
  1. Compile-time polymorphism (Static polymorphism)
  2. Run-time polymorphism (Dynamic polymorphism)
Note:- आप को यह Post कैसी लगी, और कोई सवाल होतो हमें Comment में बताये। और इसे अपने दोस्तों के साथ share ↷ भी करे. ताकि उन्हें यह जानकारी मिल सके।
 

सम्बंधित टॉपिक्स

सदस्य ऑनलाइन

अभी कोई सदस्य ऑनलाइन नहीं हैं।

हाल के टॉपिक्स

फोरम के आँकड़े

टॉपिक्स
1,845
पोस्ट्स
1,887
सदस्य
242
नवीनतम सदस्य
Ashish jadhav
Back
Top